headstande - Copy
शीर्षासन को आसनों का राजा कहा गया है। मनीषियों ने शीर्षासन को पिता तो सर्वांगासन को मां की तरह कल्याणकारी और हितैषी बताया। वशिष्ठ योग की नज़र में शीर्षासन सूर्य तो सर्वांगासन चंद्र का प्रतिनिधि करता है, ऐसे में दोनों को साथ-साथ करने का विधान है। शीर्षासन के दौरान रक्त का प्रवाह बिल्कुल विपरीत दिशा में होने से सभी आंतरिक अंगों को ऑक्सीजन और न्यूट्रिशियन बेहतर मात्रा में पहुंचाता है। ऐसे में हमारे लंग्स, हार्ट, लीवर जैसे कई अंग सेहतमंद रहते हैं। साथ ही शीर्षासन हमारे चेहेरे की ताज़गी को भी बनाएं रखता है और तनाव को चुटकियों में दूर करता है। शीर्षासन के इतने फ़ायदे जानते हुए भी इसका ना कर पाना हमारी सबसे बड़ी समस्या बन जाती है। नीचे दिएं गई योग विडियो आपको आसान तरीक़ा बताएंगा, जिससे आप इस चमत्कारी आसन का ज़्यादा लाभ उठा सकें 

सावधानी : बैक पेन, गर्दन-स्पाइन-हार्ट से संबंधित समस्याएं और पीरियड के वक्त शीर्षासन ना करें । साथ ही शीर्षासन करने से पहले शुरुआती प्रैक्टिस ज़रुर करें 

बेसिक शीर्षासन – शीर्षासन का सबसे आसान तरीक़ा 

ज़्यादातर लोग दीवार के सहारे शीर्षासन करने की कोशिश करते हैं, लेकिन सही तरीक़ा पता नहीं रहने से शरीर का एलाइन्मेंट बिगड़ जाता है। ग़लत शीर्षासन लाभ देने की जगह गर्दन और स्पाइन की समस्या पैदा कर सकता है। नीचे दिए गएं विडियो में दीवाल के सहारे शीर्षासन करने का सबसे सुरक्षित उपाय बताया गया है। इस उपाय से ज़्यादा वक्त रुकने के साथ बिना नुक़सान के आप शीर्षासन के लाभ उठा पाएंगे 

स्टेप दर स्टेप कैसे खुद अपने बल पे करें शीर्षासन 

एकबार दीवार के सहारे शीर्षासन पे आपको कम्फर्ट और एलाइन्मेंट हासिल हो जाए तो आप स्टेप दर स्टेप बैलेंस हासिल करने की कोशिश शुरु कर दें। इस विडियो को ध्यान से देख फिर कोशिश करें  

शीर्षासन में कई दूसरे आसनों का आनंद 

कई लोग शीर्षासन कर पाते हैं, लेकिन इसके लाभ को आप कई गुना और भी बढ़ा सकते हैं। इसका उपाय है कि शीर्षासन के दौरान आप कुछ दूसरे वेरियेशन करने की कोशिश करें। ऐसा करने से आपकी एकाग्रता बढ़ेगी साथ ही आप गुरुत्वाकर्षण के साथ अपनी दोस्ती कुछ और बढ़ा पाएंगे, यानी बैलेंस का सेंस कही और ज़्यादा विकसित  

एडवांस शीर्षासन- 5  दिलचस्प तरीक़ा शीर्षासन के 

पहली बात बेसिक प्रैक्टिसनर इसको ना आजमाएं। अगर आप शीर्षासन में बेहतरीन कमांड बना रखें हैं तो ये विडियो शीर्षासन के बिल्कुल नएं आयाम को आपके सामने रखेगा। कैसे थोड़ा से बदलाव शीर्षासन को चैलेंज को बदल देता है, इसका एहसास कराएगा ये योग विडियो 
नोट- शीर्षासन के बाद सर्वांगासन कॉन्टर आसन के तौर पे जरुर करें। कई योग पद्धति में शीर्षासन को सर्वांगासन के बाद करवाया जाता है। वशिष्ठ योग का मानना है कि सर्वांगासन को शीर्षासन को बाद करना चाहिए, जिससे गर्दन और कंधों पे अगर कोई स्ट्रेन रह गया हो तो उसे दूर किया जा सके। इस मुद्दे पर विस्तार से चर्चा फिर कभी 

सर्वांगासन के विडियो को देखें, क्लिक करें   

नमस्ते 
शेयर करें   
Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn
. . . . Continued
  1. August 10, 2017

    very nicely described. Thank you for sharing.

  2. December 21, 2017

    Very nice

Write a comment:

*

Your email address will not be published.

© 2015 VYF Health | Ashtanga Yoga, Hatha Yoga.
Top
#vyfhealth
Follow us:                         
Send