11 जीोलोबोसो
प्राणायाम हमारे अंदर प्राण का आयाम यानी विस्तार की प्रक्रिया है। प्राण को विस्तार देने वाले इस प्राणायाम के भी कई आयाम यानी प्रकार हैं। प्राचीन काल से प्राणायाम को लेकर बहुत बारीक समझ योगियों-मुनियों ने हमारे बीच रखी। प्राणायाम महज सांस लेने छोड़ने की प्रक्रिया भर नहीं है। प्राण कैसे हमारे आयुष, सेहत के साथ हमारे मन और आत्म तत्व से जुड़ा है उसे हमें बहुत बारीकी से समझना होगा। दुर्भाग्यवश , प्राणायाम को आज कल महज ब्रीदिंग एक्सरसाइज़ के तौर पे पेश किया जा रहा है। प्राणायाम की पूरी प्रणाली इससे बिगड़ी है और हम-आप इसका समुचित लाभ लेने से चूक गएं। अगर  प्राणायाम को सही तरीके से समझा जाएं और अभ्यास में लाया जाएं तो ये कई दृश्य और अदृश्य चमत्कारिक लाभ हमारे जीवन को दे सकता है। वशिष्ठ योग आश्रम के संस्थापक योगगुरु धीरज जी इस खास वीडियो क्लेक्शन को आप देखें , समझें और नित्य साधना में जोड़ आत्मिक लाभ लें। वीडियो को जिस क्रम में रखा गया है उसी क्रम में धीरे धीरे हर दिन आकर समझें तो सभी आयामों को आप समझ और गढ़ पाएंगें :-

लंबी आयु के लिए कैसे लें सांसें और जानें बाकी रहस्य

कुंडलिनी चक्र जागरण में प्राण शक्ति का कैसे करें प्रयोग  ? 

कपालभाति : कई भ्रांतियां, कुछ झूठ और शास्त्र का सच। क्या है सही तरीका ?

भस्त्रिका प्राणायाम : 3 प्रकार, 30 लाभ

वशिष्ठ प्राणायाम : बहुत आसन, ज्यादा लाभ

प्राणायाम : ये 5 गलतियों से बचें 

 Yogic Deep Breathing कैसे करें ? Chest Breath vs Belly Breath! 

सूर्यभेदी और चंद्रभेदी प्राणायाम

कुदर्शन क्रिया और  प्राचीन प्राणायाम विधि

10 मुख्य प्राणायाम और सही-सही क्रम 

ये 5 प्राणायाम सुबह जरुर करें, निरोग रहें

ऊँ के बारे में अनसुनी खूबियां| क्यों है OM महामंत्र ?ओम के जरिेए कैसे रहें निरोग ?

सासों का ये जबर्दस्त 3 प्रयोग बदेलगा Mood 

मुंह से सांस छोड़ने वाला ये प्राणायाम है Super Effective

कुम्भक प्राणायाम : ब्रेन में कैसे बढ़ाएं ऑक्सीजन ?

नमस्ते ऊँ
शेयर करें   
Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn
. . . . Continued
Write a comment:

*

Your email address will not be published.

© 2015 VYF Health | Ashtanga Yoga, Hatha Yoga.
Top
#vyfhealth
Follow us:                         
Send