गहरी नींद वेबसाइट

क्या आप घोड़ा बेचकर सोते हैं ? क्या है गहरी नींद का राज? 

नींद इतना नेचुरल प्रोसेस है कि हम इसके गूढ़ महत्व को कभी समझ ही नहीं पाते हैं। रात भर की नींद कैसे हमारे शरीर की मरम्मत करती है, इसके गहरे समझ को जानना जरुरी है। योगगुरु धीरज कहते हैं कि हमारे शरीर की दो अवस्थाएं हैं, एक एक्शन और दूसरा रिलैक्सेशन। जब हम कार्य में होते हैं तो शरीर के सभी अंग व व्यवस्था इस कार्य को सपोर्ट करती हैं। जब हम रिलैक्स होते हैं तो जो प्रक्रिया घटित होती है उसे रिपेयरिंग या मरम्मत कहते हैं। इसलिए जब आप थक जाते हैं, सो जाते हैं तो आराम और सुकून का अहसास होता है, क्योंकि सोने की आराम अवस्था में शरीर खुद को मरम्मत कर पाता है 

कमजोर हुई है नींद की क्वालिटी 

मौजूदा दौर में जैसे-जैसे तनाव बढ़ा है, मन में विचारों की श्रृंखला तेज हुई है उसने नींद की क्वॉलिटी को कमजोर किया है। कभी नींद नहीं आती है। नींद आती भी है तो उसमें गहराई नहीं होती है। कई सारे लोग अपना अनुभव बताते हैं कि सोने जाते हैं तो विचार ही चलता रहता है। ऐसा लगता है कि विचारों में ही सोए और विचार लेकर ही जाग गए या स्वप्न बहुत चलता रहता है। तो एक प्रकार से नींद के दौरान भी मन एक्शन में ही रहता है। मन जब सोने के दौरान भी एक्टिव रहता है तो शरीर की नेचुरल रिपेयरिंग यानी मरम्मत की जो प्रक्रिया है, वह पूरी नहीं हो पाती है। इस तरह धीरे-धीरे हमारा शरीर कमजोर होने लगता है। अंग-प्रत्यंग बीमार होने लगते हैं। हमेशा सुस्ती जैसा महसूस होता है। दिनभर झपकी लेते रहते हैं। इसलिए गहरी नींद बहुत बड़ी संपदा है जो प्रकृति ने हमें दी है

गहरी नींद के लिए क्या करें ?

ऐसे में आपके सामने सवाल है कि नींद को गहरी और क्वॉलिटीपूर्ण करने के लिए क्या करें ? सबसे पहले नींद की जो परिभाषा महर्षि पतंजलि ने दी है उसे समझें। महर्षि पतंजलि योगसूत्र में कहते हैं कि 
अभाव प्रत्ययालम्बना वृत्तिर्निद्रा’                   विचारों की लहरों का शांत होना नींद है   
साफ है कि नींद बेहतर तब होगा, तब उसमें गहराई होगी जब मन विचारों से मुक्त होगा। इस स्थिति को हासिल करने के लिए क्या करें ? इसके लिए सबसे पहले चंद्रनाड़ी को एक्टिवेट करना है। चंद्रनाड़ी रात्रि, शीतलता और शांति का प्रतीक है। यह गहरी नींद में आपको सहयोग करता है। दूसरी बात, विचारों से बचने के लिए ये बहुत जरूरी है कि सोने से ठीक पहले हम अपने आप से जुड़ें। जब आप अपने तल से जुड़ते हैं तो विचारों के बादल छंट जाते हैं। 

योगगुरु धीरज बता रहे हैं तीन प्राणायाम जो देगा गहरी नींद 

 

अन्य जरूरी बातों का भी ख्याल रखें :

गहरी नींद के लिए यह जरुरी है कि सोने से पहले जितनी जल्दी भोजन कर लें । सोने के ठीक 10 से 15 मिनट पहले बाहर के कनेक्शन से खुद को मुक्त कर लें। सोशल मीडिया, वीडियो, टीवी देखने से दूरी बना लें। किसी तरह की बहस में न पड़ें। पूरी तरह से खुद से जुड़ जाइये। रात की गहरी नींद से आपकी सेहत बेहतर होगी। आपकी कार्यक्षमता में इजाफा होगा। 

करवट लेते रहते हैं , तो ये करें उपाय । बिस्तर पर चुटकी में नींद  

 

क्या है सोने की सही शारीरिक स्थिति, जिससे आए गहरी नींद ?

 

सिर्फ 10 मिनट में घंटो के नींद  की अनुभूति – शवासन योगनिंद्रा साधना  

  
नमस्ते ऊँ 
शेयर करें
Share on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn
. . . . Continued
  1. September 24, 2020

    Pranam Dhiraj ji
    Your videos are very informative to us.
    Please. Guide .. meditation ke Vakt lagatar ubasi aur dakar ka ana kese Dur kar sakte he?

  2. September 24, 2020

    Dhirajji
    Pranam
    Meri adge 68 years he.kafi sallo se meditation kar rahi hu.last years Se ubasi aur dakar barbar ate rahte he. Kya kare?
    AK Bahen ko logo Se milne Se Dar lagta he. Kya bat karni samaj nahi aati. Avoid karti he function me jane Ke Liye. Vishudhi chakra ko kese clear kare?
    Please. Guide kare.

Write a comment:

*

Your email address will not be published.

© 2015 VYF Health | Ashtanga Yoga, Hatha Yoga.
Top
#vyfhealth
Follow us:                         
Send